Ramvilas Sharma Ka Lokpaksha by Vishnuchandra Sharma

Ramvilas Sharma Ka Lokpaksha by Vishnuchandra Sharma

  • Rs. 349.00
  • Save Rs. 1


Join as Seller
‘रामविलास शर्मा का लोकपक्ष’ पुस्तक में पक्षधरता के कई सवाल हैं। डॉ.रामविलास शतमा “उच्छृखंल’ के पाठ से हिन्दी में आए थे। तब भी वह हिन्दी की प्रगतिशीलता के योद्धा लेखक थे। जब वह आलोचना में प्रेमचंद, रामचन्द्र शुक्ल, महावीर प्रसाद द्विवेदी और निराला के स्थापित कर चुके थे, तब भी वह विवादी आलोचक थे। विष्णुचन्द्र शर्मा ने अपने पत्रों में आलोचक से कुछ सवाल उठाए हैं। डॉ. शर्मा के ‘ऋग्वेद’ का पश्चिम एशिया से नाता खोजा है। यह किताब एक भाषा वैज्ञानिक, इतिहासकार और दार्शनिक की दास्तान है, जिसे विष्णुचन्द्र शर्मा ने ‘आलोचक का मानस’ कहा है।

We Also Recommend